Dnns... अपन सोच..
Dnns... 
अपन सोच.. 
मुख्य मुद्दा सँ आय कोसों दूर.... 
कारण जे भी रहै... 
Dnns 
गाम समाजक हित में छोट छीन प्रयासक लेल बनल रहय.. 
जेकर रजिस्ट्रेशन करबा क ngo के रूप रेखा में आनल गेल.. 
ताहु पाछू.... 
किछु विशेष स्तर पर काज होऊ... 
ततबहि मंशा रहल dnns के.... 
समस्या...
1..रजिस्ट्रेशनक पेपर में देलही के पता छै... 
त की देलही के ngo Nepal भुकम्प पिरीत के... सहायता नै करै छै की...
2..रजिस्ट्रेशनक पेपर देखाऊ..
रजिस्ट्रेशनक पेपर बैंक में अई... बैंकक हालत एखन सब जनैत छी.. पंकज प्रयासरत अई.. जल्दिये भेटत सर्टिफिकेट dnns के... 
मुदा dnns के सर्टिफिकेट मात्र देखि क गाम समाजक प्रति अपन सहयोग केनिहार सँ हमर निहोरा जे अपने सब अपन सहयोग dnns के नै करी... 
जहन सर्टिफिकेट देखि लेब तकरा बादे अपन सहयोग करब अपन समाज अपन गाम लेल.... 
3...आर्थिक सहयोगक व्योरा...
Dnns आर्थिक सहयोग.. आय व्यय के लेखा जोखा उघार (पारदर्शिता )राखने अई.. जतय सबटा लेखा जोखा सब गोटे के देखा परत... 
......
कहबाक ई... 
समस्या किछु नै... 
आ 
समस्या गहन.... 
पुण: कहब 
..जे सर्टि फिकेट समाज हित में कोनो महत्व नै राखै छै... 
हम दू पाई अपना समाज में लगाबी तकर मुहीम मात्र छी dnns.. 
अहाँ dnns सँ बाहरो समाज सहयोग क सकै छी.. प्रशनली... 
से करू... 
सर्टिफिकेट देखब तहने सहयोग करब.. से कहै बला सब गोटे सँ हम कहय चाहब... 
जे dnns प्रयास में अई... 
अहाँ सब सर्टिफिकेट देखला बादे अपना समाज लेल सहयोगी बनी.... dnns.