राईतुक बात......

राईतुक बात......


राईतुक बात......

जे सप्पत खुआ लियअ... 
में हम्मर अपन एक्कहु टा पाई नै अई... 
थोरेक खोजरा बाली कनियाँ के बाँकि सबटा दैरमा बाली नवकी कनियाँ के छियै... 
नव कनियाँ सब छियै .. ओकरा सबहक चोरूक्का पैसा सब छियै.. 
आब ओकरा सबहक घर में बुझतै,
कलह हेतै .. तैं दुनू कनियाँ हमरा लग गेलै पैसा सब... 
सुनियौ ... 
कोनो व्यवस्था दियौ हजरिया पनसैया सब के ....
....
.....

आब एना टूकूर -टूकूर हमर मुँह नै ताकू... 
कहै छी हम्मर एक्कहु टा पाई नै छियै... 
,
अहाँ आब जा के कनियाँ बहुरिया सब के नै पुछय लगबै... 
कलह हेतै घर में.... 
हे... 
ऐहि में एक्कहु टा पाई खर्चा नै करबै... नहिं पूरा देबय परत ओकरा सब के...

सुनियौ ने.... 
यौ... 
अहाँ जे सब कहबै.. से सबटा..... 
......
......
.......
.......
......
.....
निचोर.....राईत सुन्नर गेलै ...